ALL Image PP-News BADA Herbal Company EPI PARTY IBBS MORCHA LIC & Job's SYSTEM
आज मैं कुछ राहत की सांस ली
April 21, 2020 • Mr. Pan singh Argal (Dr. PS Bauddh)

🔥आज मैं कुछ राहत की सांस ली🔥
                      दिनांक 20-03-2020
    मैं भी एक ग्रूप "राष्ट्रीय पेरियार सेना" वाट्स एप ग्रूप का सदस्य हूं। निस्संदेह पाल गड़ेरिया समाज का ग्रूप होना स्वाभाविक है। आज-कल सभी जातीय समाज के ग्रूपो में सामाजिक चेतना बढ़ने के कारण दो विचारधाराओं का तर्क और विचार विमर्श का टकराव होना स्वाभाविक हो गया है। एक विचारधारा ब्राह्मणवाद, मनुवाद, भगवा मंडली (सभी देवी-देवताओं, भगवानों) के नाम से पहले से प्रतिस्थापित किया गया है।
 दूसरा इसके विरोध में, कयी रूप में देखने को मिल रहा है जैसे अंबेडकरवाद ( शूद्रवाद, फुले, पेरियार, शाहू,)
 यहां जानकारी देना उचित होगा कि मैं पहले भी लेख लिख चुका हूं कि महाराष्ट्र में अम्बेडकरवाद के बढ़ते वर्चस्व को खत्म करने के लिए, मनुवादियों ने हर जाति में एक महापुरुष पैदा करके और उन्हें बाबा साहेब आंबेडकर से बड़ा बना कर , अंबेडकर के खिलाफ खड़ा कर दिया और अंबेडकरवाद को महाराष्ट्र से कमजोर करने में सफल हो गए। बौद्ध लोगों के अलावा दूसरी जाति के लोग अभी भी बाबा साहेब को नहीं मानते हैं। अपनी अपनी जाति के नेता को ही महत्त्व देते हैं।
 इसी कड़ी में महाराष्ट्र में धनगर समाज  ( पाल गड़ेरिया) को अहिल्याबाई होलकर को बाबा साहेब से बड़ा बताकर उनकेे समाज में प्रतिस्थापित किया गया है जो आज सर्वमान्य है।
  इस ग्रूप में भी दो विचारधाराओं मनुवादी जो अहिल्याबाई होलकर को लेकर मनुवाद के पक्ष में और दूसरा ग्रूप अंबेडकरवाद, जो पेरियार जी को लेकर कयी दिनों से तर्क वितर्क चल रहा था।
   लास्ट में पेरियार समर्थकों ने कुछ मनुवादियों को सुधार दिया और जो नहीं सुधरे, उनको ग्रूप से निकाल कर ग्रूप का शुद्धिकरण कर लिया।
  सभी लोग बधाई के पात्र हैं। धन्यवाद।
 इसी तरह के तर्क वितर्क हर समाज, यादव, मौर्या, राजभर कुर्मी आदि समाज में देखने को मिल रहा है और लोग अब मनुवादी लोगों को करारा जवाब दे रहे हैं और लोग भागने को मजबूर हो रहे हैं।
 शूद्रवाद यानि वैज्ञानिकता (अंम्बेडकरवाद) के लिए शुभ लक्षण दिखाई दे रहा है। धन्यवाद।
  शूद्र शिवशंकर सिंह यादव