ALL Image PP-News BADA Herbal Company EPI PARTY IBBS MORCHA LIC & Job's SYSTEM
हमारे पुरखो ने देश बचाने के लिये तलवार क्यों उठाई
December 13, 2019 • Mr. Pan singh Argal (Dr. PS Bauddh)

*✍भीम पुत्र ललित बौद्ध*

*खेहरात मिली दो रोटी खा कर देश भक्ति की नाटक करने वाले आज सँविधान  बदलने की बात करते है* 
   *इस मैसेज को समय निकाल कर पढ़ लेना तुमारे पुरखो की तरह हमारे पुरखे छड़ी पहन कर देश मे तलवार नही घुमाई है*
     👉👉👉 हमारे पुरखो ने देश बचाने के लिये तलवार उठाई है
     
आदिवासियों के विविध आंदोलनों की सूची
1778, बिहार में पहाड़िया सरदारों का अंग्रेजों के खिलाप सँघर्ष 
1784-85 महाराष्ट में महादेव कोली का संघर्ष
1794-95 छोटा नागपुर का तमाड़ सँघर्ष
1795-1800 बिहार का चेरी सँघर्ष
1798 बिहार में पंछेट एस्टेट के बेचने विरुद्ध संघर्ष
1801बिहार में तमाड़ सँघर्ष
1803 आंध्र के पूर्व गोदावरी क्षेत्र में कोया सँघर्ष
1807-08 छोटा नागपुर सँघर्ष
1809-28 गुजरात मे भीलो का संघर्ष
1811-17 बिहार में आदिवासी किसानों के संघर्ष
1818-20,बिहार में आदिवासी किसानों के संघर्ष
1818 महाराष्ट्र में महादेव कोली आदिवासी सँघर्ष
1816-1824 आसाम में  बर्मि सेना के विरोध सँघर्ष
1824-1826 बर्मियो के विरूद्ध आसाम के आदिवासियों का संघर्ष अंग्रेजो ने आदिवासियों का साथ दिया और बाद में शोषण किया
1825 सादिया में अंग्रेज छावणी पर सिंगपो आदिवासियों का संघर्ष
1827 मिशिमी आदिवासियों द्वारा अंग्रेज विलकाकस की हत्या 
1828 गुमधर कुँवर के नेतृत्व में आसाम के आफ़ीवासियो का अंग्रेज विरुद्ध संघर्ष
1828 तीन हजार सिंगप्पो आफ़ीवासियो का सादिया पर हमला
1829 आदिवासी नेता तीरथसिंह द्वारा  आसाम में खासी सँघर्ष
1831-32 महान कोल सँघर्ष
1820-32-67 बिहार मुंडा सँघर्ष
1832-33 बिहार हजारीबाग भागिरथ के नेतृत्व में खेरवार सँघर्ष
1834-42 आसाम में कुमाइयो का संघर्ष
1835 जयंतिया पहाडी के राजा द्वारा अंग्रेजों के विरोध सँघर्ष
1836 आसाम में मिश्मियो द्वारा अंग्रेजो की हत्या
1838 गुजरात के नमक सँघर्ष में आदिवासियों
1839-43 आसाम में खम्पातीयो का संघर्ष
1842 बस्तर के गोंड आदिवासियों द्वारा अंग्रेज कैप्टन पर हमला
1842 आसाम के लुशाइयो के अराकान तथा सिलहर को अंग्रजो से मुक्त कराया
1843 सिंगयो  आदिवासियों ने मुखी निंरफल के नेतृत्व में बिर्टिश छावणी पर हमला किया
1846 गुजरात मे कुँवर जीवा वसावा के नेतृत्व में भीलो का संघर्ष 
1849  करम सिंगपो द्वारा सँघर्ष
1850 ओड़िसा  में आदिवासियों नेता चकरविश्रोई का सँघर्ष 
1855 मिश्मी आदिवासियों द्वारा दिकुयो की हत्या 
1858 गुजरात मे नायकदास का अंग्रेजो के विरुद्ध संघर्ष
1857-58 गुजरात मे भागोजी नायक
1860 लसाई मुखीद्वारा त्रिपुरा पर आक्रमण 
1861 उड़ीसा में आदिवासियों द्वारा  फुलागाडी और जुआंग सँघर्ष 
1862 जयंतिया पहाड़ियों पर सिंगप्पो का संघर्ष
1868 गुजरात मे झोरिया  भगत के नेतृत्व में नायक सँघर्ष
1868-69 कामरूप ओर दारंग में    रायगममेलो का सँघर्ष
1869 सिंगपो ओर अंग्रेजो के बीच निर्णायक सँघर्ष
1869-70 घनबाद में आदिवासी सँघर्ष
1869 नागा सँघर्ष
1870 आंध्र में मुदादारों ओर अंग्रेजो के बीच संघर्ष
1880 मालकिनगिरी तस्मनडेरा के नेतृत्व में सँघर्ष
1883 अंडमान में आदिवासियों का सँघर्ष
1889 मुंडा सरदारों द्वारा दिकुयो के विरुद्ध सँघर्ष
1891 -92 तीकेन्द्रजीत सिंह के नेतृत्व में अंग्रेज विरुद्ध सँघर्ष
1895 बिरसामुण्डा के नेतृत्व में आंदोलन ओर सँघर्ष
1911 बस्तर में आदिवासी विरो द्वारा संघर्ष
1913-14 बिहार में तानाभगतो द्वारा  सँघर्ष
1922 आंध्रा में अल्लुरी सीताराम राजू के नेतृत्व में रम्पा संघर्ष
1932 नागारानी  गायडीनल्यू के नेतृत्व में सँघर्ष
1941 आंध्र प्रदेश में आदिलाबाद जिले में गिमुना के नेतृत्व में गोंड कोल संघर्ष
1942 ओडिसा में कोरापुर में लक्ष्मण नायक के नेतृत्व में सँघर्ष 
1844 -45 अण्डमान में जापानी सेना के विरुद्ध आदिवासी सँघर्ष
   वर्तमान भारत मे 18 वी सदी के उत्तरार्द्ध में बिहार के पहाड़ी इलाको के अंग्रेजी शासन के विरुद्ध प्रथम सँघर्ष छेड़ा था जिसमे मुख्य नाम तिलका मांझी 1750 -85 का है 1785 में वे पकड़े गये ओर फाँसी दी गई ।भारत के प्रथम स्वातन्त्र्य वीर आदिवासी तिलका मांझी थे