ALL Image PP-News BADA Herbal Company EPI PARTY IBBS MORCHA LIC & Job's SYSTEM
लकीर के फकीर*   *मत  बनो जमीर।*    *परख स्वंय दर्पण,*     *बदल तकदीर*
April 22, 2020 • Mr. Pan singh Argal (Dr. PS Bauddh)

[4/21, 12:54] Cid Amar Singh Bhopal: *लकीर के फकीर*
  *मत  बनो जमीर।*
   *परख स्वंय दर्पण,*
    *बदल तकदीर*
     -------------------------
अंधविश्वासी पाखंडवादी समाज लकीर के फकीर बन कर मनूवादियों के पीछे पिछलगू बनकर चापलूसी करना गुलामों की नीति है, बहुजन अपना अमोल समय बर्वाद कर निर्णायक भूमिका क्यों नहीं निभा रहा है।
      गुलाम गीरी सीमा की हद होती है मुर्ख की सीमा की शुरूवात अंधविश्वास पाखंडवाद से होती है और पढा लिखा समाज का दाउत्व बनता है कि हम खुल कर पाखंडियों का विरोध कर सत्य शोधक समाज की स्थापना करें और अज्ञानता को दूर करें।
       शासन सत्ता मैं बैठे सामंत वादी शोषण कर्ता शोषण के पोषक हैं और शोषितों का शोषण करते रहेंगे। यह प्रकृति का नियम है बडी मछली छोटे का अहार करती आई है,जीव जीव का अहार है। मैं विश्वास जीवों में मानव श्रेष्ठ है यह सत्य है  हमारी मानवीय दृष्टि होना चाहिए और सत्ता में बैठे गद्दारो को जाग्रत बहुजन समाज को एक होकर भारतीय संविधान न्याय हित में अस्प्रृश्यता की जंग विवस्था परिवर्तन मैं भागीदारी खुल कर निडर निर्भीक निशंक होकर लेना चाहिए लकीर के फकीर बनकर काम नहीं चलेगा।अस्प्रृश्यता दूर करना ही आपके जीवन का मेंन लक्ष्य है और स्वाभिमान सममान की जिंदगी जीना और मानव समाज का कल्याण करना यही आपके जीवन का सार है।
     जिनका स्वाभिमान मरा है वे जीते जी मुर्दा हैं।
जय भारत,
🇮🇳जय संविधान🇮🇳।
जागो मूलनिवासी।
बोल पच्चासी।
     *अमर सिंह*
        *SI*
*CID,MP,BPL*
[4/21, 21:26] Cid Amar Singh Bhopal: *दोगली नीति*
         --------:----------
राजनीति ✌️दोगली नीति नहीं होनी चाहिए, दोगली नीति से लोकतंत्र की हत्या होती है। लोकतंत्र की परिभाषा है जनता की जनता द्वारा जनता के लिए लेकिन एेसा नहीं है वर्तमान में  कुवेर तंत्र ,लूट तंत्र,और फूट तंत्र,सामंत वादी तंत्र हावी है लोकतंत्र तो है ही नहीं।
     *EVM की लूट है,*
    *लोकतंत्र की हत्या।*
*कुवेर तंत्र से बने,*
*चोरों की सत्ता।*
सामंतवादियों को छूट है, गुलाम बनाने की सडयंत्र कारी नीति निरधारित कर अपना उल्लू सीधा करना यही ✌️दोगली नीति है।
जागो मूलनिवासी।
    अमर सिंह