ALL Image PP-News BADA Herbal Company EPI PARTY IBBS MORCHA LIC & Job's SYSTEM
रघुवेन्द्र सिंह रिपोर्टर भिण्ड : आज रूखी और सूखी रोटी का असली पता चला
April 24, 2020 • Mr. Pan singh Argal (Dr. PS Bauddh)

आज रूखी और सूखी रोटी का असली पता चला है क्योंकि आज जो आपके सामने है वह है हकीकत दृश्य भिंड से ग्वालियर तक के रास्ते में मेहगांव के पास पैदल जा रहे मजदूर अशोकनगर शिवपुरी के बदरवास आदि जगह के यह मजदूर पैदल अपने गंतव्य स्थल तक पहुंच रहे हैं इनके साथ इनके परिवार के लोग हैं छोटे-छोटे बच्चे हैं खाने के लिए इनके पास आटा के अलावा कुछ नहीं है मजदूरी के लिए आए थे ठेकेदार जो लाए थे उन्होंने आप कह दिया कि अपने घर जाओ पंचायतों में इनके लिए ना तो रुकने की व्यवस्था है ना ही खाने की व्यवस्था अपने घर पहुंचने के लिए भिंड कलेक्टर कार्यालय में गुहार लगाते रहे कि मुझे परमिशन मिल जाएगा आज लेकिन परमिशन भी नहीं मिला ऐसा उन्होंने बताया मजदूरी करके जो कमाया था वह सब खर्च होता चला जा रहा था जब कुछ खाने को नहीं बचा थोड़ा बहुत बचा तो सोचा पैदल ही निकल ले रात में जहां पानी मिल गया वहीं रुक गए और बच्चों एवं अपनी खुद की भूख को शांत करने के लिए आटा को गूंथा और आसपास से लकड़ी लेकर उस आटे को भुना बड़े-बड़े टिक्कर बनाए बच्चों के लिए नमक डालकर आटे के लड्डू बनाकर उस अग्नि में भूनकर कर रख दिए जिससे बच्चों को रास्ते में भूख लगे तो वह नमक का लड्डू दिया जा सके स्थिति बड़ी भैया भाई है मजदूरों की जोस्थिति मैंने देखी यदि आप भी इस स्थिति को देखते तो आप भी अपने आंखों के आंसू नहीं रोक पाते प्रदेश सरकार जरूर इन लोगों के साथ अन्याय कर रही है क्योंकि जब अमीर लोगों के बच्चे कोटा से बस के माध्यम से पुलिस सिक्योरिटी एवं मेडिकल टीम के साथ भिण्ड वापस आ सकते हैं तो भिंड में मजदूरी करने के लिए आए मजदूरों को भी उनके गंतव्य स्थल तक पहुंचाने के लिए सरकार जिम्मेवार है उनके भोजन के लिए जिम्मेवार है गांव के लोगों ने ही उनको घर जाने को बोला पुलिस अपने थाना क्षेत्र से बहला-फुसलाकर आगे के लिए निकाल देती है कि आगे हम ट्रक वगैरा-वगैरा किसी वाहन में बैठा देंगे, लेकिन उनका क्षेत्र खत्म होते ही पुलिसकर्मी भी वापस आ जाते हैं बड़ा ही स्थिति खराब है देख कर रहा नहीं गया इसलिए इतना परेशान हो रहा हूं लिख लिख कर